भारत का दक्षिणी प्रायद्वीपीय पठार – विस्तृत चर्चा

Table of Contents

यह प्रमाणित है कि भारत की सांस्कृतिक संस्कृति और विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता है। भारत का भौतिक स्वरूप बहुत जटिल है। पिछले ब्लॉग पर हम इसकी सीमा के उत्तरी भाग के बारे में पहले ही चर्चा कर चुके हैं। इस ब्लॉग में हम भारत के भौतिक स्वरूप के विषय को आगे भी चर्चा जारी रखेंगे, इसलिए ब्लॉग के साथ बने रहें

created by www.saarkarinaukri.com

भारत के प्राकृतिक स्वरूप की श्रृंखला में यह हमारा तीसरा ब्लॉग है हम अपने पिछले दो ब्लॉग में हम पहले ही भारतीय भूगर्भीय सीमा के पहले और दूसरे स्तंभ के बारे में विस्तार से चर्चा कर चुके हैं, जो कि महान हिमालय के बारे में और उत्तरी भारत के मैदानी क्षेत्रो और तटीय इलाको के बारे मे था, लेकिन दो और प्रमुख स्तंभ अभी भी मौजूद हैं। इस ब्लॉग में हम एक विषयों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे, इसलिए ब्लॉग के संपर्क में रहें।  भारतीय भूगर्भीय सीमा के तीसरे और चौथे प्रमुख स्तंभ इस प्रकार है  – 

03) दक्षिण का पठारी क्षेत्र।
04) भारत के द्वीप।

प्रायद्वीपीय पठार

प्रायद्वीपीय पठार या प्रायद्वीपीय भारत इंदू-गंगा (Indo-Gangetic) के मैदान के दक्षिण में फैले क्षेत्र को दिया गया नाम है और यह किनारों पर समुद्र से घिरा हुआ है। यह पठार एक त्रिभुज के आकार का है जिसका आधार उत्तर में है। पूर्वी घाट और पश्चिमी घाट क्रमशः भारत की पूर्वी और पश्चिमी सीमाएँ बनाते हैं। 

मालवा का पठार और दक्कन का पठार

नर्मदा नदी जो इस पठार में एक भ्रंश घाटी (rift valley) से होकर बहती है, जो इस क्षेत्र को दो भागों में विभाजित करती है:                                                                                                                                       01) उत्तर में मालवा का पठार                                                                                                                         02) दक्षिण में दक्कन का पठार।                                                                                                                   इस पठारी क्षेत्र की अधिकांश चट्टानें बहुत पुरानी हैं और आग्नेय प्रकार की (igneous type.) हैं। पठार के उत्तरी भाग पर पश्चिम में अरावली पर्वतमाला का कब्जा है। केंद्र में मालवा क्षेत्र और पूर्व में छोटा नागपुर पठार हैं। प्रायद्वीपीय पठारी क्षेत्र की शैल प्रणालियाँ उत्तर-पूर्व की ओर मेघालय पठार तक फैली हुई हैं।

छौटा नागपुर का पठार और मेघालय का पठार

हालांकि, हिमालय के पहाड़ी क्षेत्र में उठने वाली नदियों द्वारा कटाव के कारण छौटा नागपुर पठार और मेघालय पठार अलग हो गए हैं।

दक्कन के पठार का दक्षिणी भाग

दक्कन के पठार का दक्षिणी भाग तीन प्रमुख इकाइयों में विभाजित है –
01) पश्चिमी घाट,
02) पूर्वी घाट
03) दक्कन डेक्कन ट्रैप।
डेक्कन ट्रैप क्या है?
दक्कन ट्रैप पठारी क्षेत्र के मूल का प्रतिनिधित्व करता है।
दक्कन ट्रैप के इस भाग में भारत की प्राचीनतम शैल प्रणालियाँ पाई जाती हैं। यह क्षेत्र क्रिस्टलीय चट्टानों (crystalline rocks) से बना है। पठारी क्षेत्र के पूर्व दिशा में अरावली और  पश्चिमी घाटों के अलावा कई अन्य छोटे पहाड़ भी शामिल हैं। इनमें मध्य भारत के विंध्य और सतपुड़ा शामिल हैं।

सतपुड़ा की पहाड़ियाँ

सतपुड़ा की पहाड़ियाँ, जो नर्मदा और तापी नदियों के बीच स्थित है, में कई पहाड़ियाँ का एक समूह हैं जिनमें महाराष्ट्र में राजपीपला पहाड़ियाँ और मध्य प्रदेश में मैकल रेंज और पचमर्थी पहाड़ियाँ शामिल हैं।

अन्य विशेषताएं

01) पश्चिमी घाट दक्कन ट्रैप क्षेत्र को पश्चिमी तटीय मैदान से अलग करता है
02) जबकि पूर्वी घाट पूर्वी तटीय मैदान और दक्कन ट्रैप के बीच स्थित है
03) पश्चिमी घाट दक्षिण से उत्तर की ओर एक सतत श्रेणी बनाते हैं और इस क्षेत्र की उच्चतम सीमा को अक्सर सह्याद्री कहा जाता है।
04) दूसरी ओर पूर्वी घाट एक अंतराल के साथ बहुत सी असंतत पहाड़ी श्रृंखलाओं के द्वारा निर्मित होते हैं जिसके माध्यम से प्रायद्वीपीय क्षेत्र की नदी बंगाल की खाड़ी में बहती है।                                                       05) पश्चिमी घाट पूर्वी घाट से नीलगिरी पहाड़ियों (नीले पहाड़ों) (Nilgiri hills) से जुड़े हुए हैं।                         06) इनके दक्षिण में अन्नामलाई पहाड़ियाँ (Annamalai hills) हैं (अन्नामलाई प्रायद्वीपीय क्षेत्र की सबसे ऊँची चोटी है) जो पालघाट दर्रे द्वारा पूर्व से अलग होती हैं।                                                                               07) अन्नामलाई पहाड़ियाँ (Annamalai hills) की दो शाखाओं को पलानी हिल्स और येलागिरी (कार्डामम) हिल्स (Palani Hills and the Yelagiri (cardamom)hills.) के नाम से जाना जाता है।                               08) पश्चिमी घाट की कई नदियों  झरने हैं।                                                                                                 09) शिवसमुद्रम जलप्रपात, गोकक जलप्रपात और महात्मा गांधी जलप्रपात (The sivasamudrum Fall, the Gokak fall and the Mahatma Gandhi Fall ) इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण जलप्रपात (waterfalls) हैं।

प्रिय पाठकों, भारत का प्राकृतिक भूगोल विषय यहीं समाप्त नहीं होता है, एक बिंदुओं पर चर्चा अभी बाकी है। वो हैं - 01) भारत के समूह द्वीप समूह अगर हम इन बिंदुओं पर यहां चर्चा करते हैं तो यह ब्लॉग इतना लंबा हो जाता है याद रखना मुश्किल हो जाएगा इसलिए हम इन बिंदुओं पर अगले आने वाले अलग ब्लॉग में चर्चा करेंगे। कृपया ब्लॉग से जुड़े रहें। धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *