भारत का इतिहास का महत्व समझने में आसान – एक प्रयास

इतिहास और संस्कृति हमेशा गतिशील है, भारत का इतिहास मानव सभ्यता की शुरुआत तक फैला हुआ है। यह भी कहा जा सकता है कि भारतीय इतिहास सिंधु नदी के किनारे की रहस्यमय संस्कृति और भारत की दक्षिणी भूमि में कृषक समुदायों से शुरू होता है।

लीड्स विश्वविद्यालय में इतिहास में पीएचडी उम्मीदवार फ्रांसेस्का मॉर्फकिस के अनुसार कि ‘इतिहास लोगों, कार्यों, निर्णयों, बातचीत और व्यवहार का अध्ययन है’ इतिहास एक आख्यान है जिससे वर्तमान लोग ‘तथ्यों’ को निर्धारित और क्रमित करके अतीत को समझने की कोशिश करते हैं। दूसरे शब्दों में इन आख्यानों से हम उन निर्णयों और प्रक्रियाओं की व्याख्या करने की आशा करते हैं जो हमारे अस्तित्व को आकार देते हैं।
इसे इस प्रकार भी कहा जा सकता है कि कोई भी इतिहास भविष्य के लिए सुगम मार्ग प्रदान करता है। यहां भारत के इतिहास के बारे में बात कर रहे हैं। भारत के इतिहास को बेहतर ढंग से समझने के लिए हमें भारत के इतिहास में उतरना होगा क्योंकि भारत का इतिहास बहुत विशाल है लेकिन एक प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण विषय है।
हम इसे समझने में आसान बनाने की कोशिश करेंगे और अलग ब्लॉग के साथ विषयवार विवरण पर चर्चा करेंगे। कृपया इस ब्लॉग के संपर्क में रहें।

created by www.saarkarinaukri.com
https://www.saarkarinaukri.com/

भारतीय इतिहास का अध्ययन कई कारणों से महत्वपूर्ण है। यह हमें बताता है कि लोगों ने सबसे पहले संस्कृति का विकास कैसे, कब और कहां किया। भारतीय इतिहास का महत्व यह भी बताता है कि जातिवाद के विकास ने ब्राह्मणवाद, हिंदू धर्म, जैन धर्म और बौद्ध धर्म का जन्म कैसे हुआ, और कैसे संस्कृतियों और धर्मों का परस्पर संबंध हुआ, संस्कृति और संबंध कैसे विकसित और ध्वस्त हुए, कैसे आक्रमणकारियों ने संस्कृति को कैसे ध्वस्त किया और फिर से बनाया, एक असामान्य प्रकार की सामाजिक व्यवस्था भी जो भारत में विकसित हुई।
इस ब्लॉग में भारतीय इतिहास की संक्षिप्त व्याख्या शुरू करने जा रहे हैं और इसे आसान और रोचक बनाने का प्रयास करेंगे लेकिन इस ब्लॉग के साथ रहने का प्रयास करें ।

भारत के इतिहास को तीन अवधियों में विभाजित किया गया है। 01) प्राचीन इतिहास काल, 02) मध्यकालीन इतिहास काल, 03)आधुनिक इतिहास काल,

प्राचीन इतिहास काल –

भारतीय प्राचीन इतिहास काल आठवीं शताब्दी ईस्वी के मध्य से शुरू होता है। भारतीय इतिहास के प्राचीन काल को बनाने वाली ऐतिहासिक प्रक्रियाएँ और घटनाएँ लगभग 6ठी-7वीं शताब्दी ईस्वी से बदलने लगीं थी। इस बदलते स्वरूप के कारण पहले के दौर से कभी भी पूर्ण विराम तो नहीं लग पाया था लेकिन कुछ पुरानी प्रक्रियाएँ का अस्तित्व समाप्त हो गया था लेकिन साथ ही साथ कुछ अन्य नई घटनाओ ने आकार लेना शुरू कर दिया था। अगर हम उदाहरण से समझते हैं तो, 01) गुप्ता काल (Gupta period) के दौरान राजनीतिक संगठन का गणतांत्रिक रूप जो की लगभग चौथी शताब्दी ईस्वी में शुरू हुआ था अपना अस्तित्व खोता जा रहा था। 02) इस अवधि के दौरान, उत्तरी भारत के कई हिस्सों में कृषि क्षेत्र में प्रचलित आर्थिक व्यवस्था में एक नए प्रकार के संबंधों का उदय हुआ। 03) जाति व्यवस्था, जो उत्तर वैदिक काल (later vedic period) में उभरने लगी थी, ने गुप्तोत्तर काल (post-Gupta period) में एक नया रूप धारण कर लिया था। 04) गुप्तोत्तर काल (post-Gupta period) में क्षेत्रीय संस्कृतियों व क्षेत्रीय भाषाओं भी अपना अस्तित्व बदलने लगी थी।

मध्यकालीन इतिहास काल

ये सभी ऐतिहासिक परिवर्तन भारतीय प्राचीन इतिहास काल में एक नए चरण की शुरुआत का संकेत देते हैं और यह परिवर्तन 7वीं-8वीं शताब्दी ईस्वी में मध्ययुगीन काल की शुरुआत माना जा सकता है लेकिन कुछ लोग महमूद गजनी की भारत पर चढ़ाई या दिल्ली सल्तनत की स्थापना को भारतीय मध्ययुगीन काल के 7वीं-8वीं शताब्दी ईस्वी में एक नए चरण की शुरुआत का संकेत मानते हैं।

आधुनिक इतिहास काल

इसी तरह, पारंपरिक कालक्रम 1757 के प्लासी की लड़ाई को आधुनिक काल की शुरुआत के रूप में पहचानता है। इसके बजाय, अब 18वीं शताब्दी के मध्य दशकों में मुगल साम्राज्य के टूटने और क्षेत्रीय शक्तियों के उदय को मध्यकालीन युग से लेकर आधुनिक काल तक के परिवर्तन के एक संकेतक के रूप में लिया जाता है।

भारत की भौतिक विशेषताएं

किसी भी देश के इतिहास का अध्ययन करने से पहले यह समझना महत्वपूर्ण और आवश्यक है कि उस देश की भौतिक विशेषताएं कैसी है क्योंकि भौतिक विशेषताओं के कारण ही उस देश के ऐतिहासिक विकास पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। किसी भी देश की सभ्यता प्रकृति की अनियमितताओं को नियंत्रित करने और उन पर काबू पाने के लिए निवासियों की क्षमता पर बहुत कुछ निर्भर करती है। हालाँकि, मानव इतिहास यह प्रमाणित करता है कि मनुष्य पर्यावरण को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में सक्षम नहीं था और मिट्टी, स्थलाकृति, वर्षा और जलवायु में विविधताओं ने अपनी अलग विशेषताओं और पहचान बना ली थी, इसी पहचान के कारण कई अलग-अलग समवर्ती क्षेत्रों का निर्माण हो जाता है। इसी कारण प्रत्येक क्षेत्र के निवासी की भाषा, उनके भोजन का बनना व खाना, उनकी पोशाक व रहन-सहन, खेती करने का तरीका, जनसंख्या का घनत्व, जाति की संरचना आदि एक दूसरे से भिन्न होते चले गए। यह भी एक ऐतिहासिक रूप से बड़ा कारण हो सकता है कि, कुछ क्षेत्र अन्य क्षेत्रों की तुलना में पहले विकसित क्षेत्रों के रूप में उभरे।

यदि हम भारत के इतिहास के बारे में बात करें तो क्षेत्रीय मतभेद और संबंधित अलग पहचान जो भौगोलिक परिस्थितिओं के कारण विकसित हो गई थी उस कारण अखिल भारतीय राज्यों के उदय के रास्ते में बहुत बडा रोडा बन कर सामने आये और पूरा उपमहाद्वीप कभी भी एक राजनीतिक इकाई नहीं बन पाया।

भौतिक स्थिति और मानव के बसावट की व्यवहार के बीच के संबंध को समझना एक अन्य महत्वपूर्ण विषय है जिस पर ध्यान देने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, हड़प्पा सभ्यता के पतन का कारण , भूमि और संसाधनों पर संभावित जनसंख्या का दबाव के साथ-साथ प्राकृतिक संसाधनों और दुर्गम स्थलाकृति के अत्यधिक उपयोग भी हो सकता है हम इस कथन से इनकार नहीं कर सकते है (इस विषय पर अन्य ब्लॉग में अलग से चर्चा करेंगे)।

भारत की भौगोलिक स्थिति

यदि हम भारत की भौगोलिक स्थिति के बारे में बात करते हैं तो हम पाते है की भारत का उत्तरी भाग हिमालय पर्वत से ढका हुआ है और दक्षिणी भाग हिंद महासागर से आच्छादित है, दक्षिण-पश्चिम और दक्षिण-पूर्व उपमहाद्वीप के अलगाव का एक सतही दृश्य बनाते हैं। हालांकि, यहां तक ​​​​कि सबसे कठिन इलाके भी लोगों के बीच विचारों और प्रभावों की आवाजाही में बाधा नहीं डालते हैं।

भारतीयों में संस्कृति और रीति-रिवाजों की विविधता है। भारत में लोग अलग-अलग स्थिति में रह रहे हैं कुछ लोग बहुत कठिन परिस्थितियों में रहते हैं उसके बाद भी लोगों के बीच संचार संभव है। लोगों की रहने की स्थिति उनके विचारों और संस्कृति के आदान-प्रदान को प्रभावित नहीं करती है। विचारों और संस्कृति का आदान-प्रदान सीमा तक प्रतिबंधित नहीं है, बल्कि लोगों को सीमा पार भी प्रभावित करता है। इन सीमाओं पर सांस्कृतिक प्रभावों का आदान-प्रदान हुआ है और पश्चिम, पश्चिम एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया के साथ समुद्री संपर्क रहे हैं।

यह ब्लॉग एक परिचयात्मक ब्लॉग है जो इतिहास के महत्व पर बल देता है। अगर हम प्रतियोगी परीक्षा में इतिहास के महत्व के बारे में बात करते हैं तो इतिहास परीक्षा में सफलता पाने का मुख्य घटक है। जो प्रतिभागी किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, वे इस ब्लॉग पर जा सकते हैं और अतिरिक्त पाठक इसके माध्यम से अपने दिमाग को तरोताजा कर सकते हैं।
आपके समर्थन के लिए धन्यवाद कृपया टिप्पणी करें और क्या
अतिरिक्त आप जानना चाहते हैं या किसी सुधार की आवश्यकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *